नवंबर से सेक्टर 9 अस्पताल में OPD के समय सारणी में हुए बदलाव से कर्मी खफा है।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Bhilai BSP News बीएसपी: भिलाई स्टील प्लांट का अस्पताल पंडित जवाहरलाल नेहरु चिकित्सालय अनुसंधान केंद्र जिसे सेक्टर 9 हॉस्पिटल के नाम से भी जाना जाता है। इस हॉस्पिटल में कोविड-19 को देखते हुए ओपीडी के समय सारणी में बदलाव किया गया है जिसके चलते अस्पताल कर्मियों को सुबह 8:00 बजे से शाम 4:30 बजे तक लगातार ड्यूटी करना पड़ रहा था । Covid 19 को लेकर हुए बदलाव से कर्मियों को कोई परेशानी नहीं है , वे सुबह 8:00 से शाम 4:30 बजे तक ड्यूटी करने को तैयार है ।

लेकिन अभी मैनेजमेंट ने फिर से बदलाव कर दिया है और पहले की तरह ओपीडी की टाइमिंग फिक्स कर दी है जो कि सुबह 8:00 बजे से 1:30 बजे तक और फिर शाम 4:00 बजे से 6:30 बजे तक का ड्यूटी लगाने का आदेश दिया गया है । इस बदलाव को 2 नवंबर 2020 से लागू किया जाएगा। लेकिन सेक्टर 9 हॉस्पिटल के कर्मचारी परेशान हो गए है इस सूचना से। और वह यह सवाल खड़े कर रहे हैं कि क्या covid 19 पूरी तरह से खत्म हो गया है।


एक ओर जहां देश के प्रधानमंत्री बार-बार यह कह रहे हैं कि कोविड-19 को लेकर सावधान रहें , जब तक दवाई नहीं तब तक कोई ढिलाई नहीं । वहीं दूसरी ओर मैनेजमेंट कर्मियों और उनके परिवार को जोखिम में डाल रहे है। इस बात को लेकर कर्मियों ने अपनी गुस्सा अपने यूनियन के सामने रखा है और शिकायत किया है। उच्च प्रबंधन से चर्चा की है लेकिन अब तक उन्हें कोई भी आश्वासन नहीं दिया गया है ।

प्रबंधन ने कहा है कि इस मामले में बातचीत जारी है , यूनियन इंटक के पदाधिकारियों ने कहा है कि हॉस्पिटल के उच्च प्रबंधन से हम मिलकर बातचीत कर रहे हैं और कर्मियों को होने वाले दिक्कत उनके सामने रख रहे हैं । हालांकि अस्पताल प्रबंधन ने यूनियन के पदाधिकारियों को भरोसा दिलाया है।

कर्मियों की परेशानी

सेक्टर 9 हॉस्पिटल में ओपीडी के टाइम से हुए बदलाव के कारण कर्मियों का कहना है कि ठंड के समय में वे अगर सुबह के टाइम से लेकर शाम 4:00 बजे तक ओपीडी में रहते हैं तो वे घर समय से जा सकते है । साथ ही जो कर्मी पहले से रिटायर्ड है या पूर्व कर्मचारी हैं या अधिकारी हैं उन्हे शाम होने से पहले घर जाने को मिलेगा । अगर वह समय बदला जा रहा है यानी कि पहले की तरह किया जा रहा है कि सुबह 8:00 बजे से 1:30 बजे तक और फिर शाम 4:00 बजे से 6:00 बजे तक तो उन्हें ठंड के समय में अस्पताल शाम को आना होगा ।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •