तिरंगा झण्डा को लेकर महबूबा मुफ्ती का विवादित बयान

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

जम्मू कश्मीर : जम्मू कश्मीर में जब से पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती बाहर निकली है, तब से जम्मू और कश्मीर में सियासी हलचल काफी देखने को मिल रहा हैै। महबूबा मुफ्ती जबसे नजरबंदी से रिहा हुई है , उसके बाद से उन्होंने वहा की जितनी भी पार्टियां हैं उनके साथ मिलकर धारा 370 को वापस लाने के लिए आवाज को बुलंद कर रही हैं। और उसके बाद से वह अपनी राय रख रही है और तिरंगे झंडे को लेकर काफी विवादित बयान दे दी हैं ।

फिलहाल तो उनके बयान से काफी बवाल मचा हुआ है, क्योंकि महबूबा मुफ्ती ने दरअसल भारत के झंडे तिरंगे झंडे को लेकर एक विवादित बयान दे दिया है जिसको लेकर लेकर जम्मू और कश्मीर में विरोध प्रदर्शन किए जा रहे हैं।

जिसमें पीडीपी नेता महबूबा मुफ्ती के दफ्तर के बाहर नारेबाजी भी की गई है और तिरंगा फहराया गया है, एबीपी कार्यकर्ताओं के द्वारा ।

श्रीनगर के टैगोर हॉल से लेकर शेरे ए कश्मीर इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर तक बीजेपी कार्यकर्ताओं ने तिरंगा झंडा की रैली निकाली और श्रीनगर में भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने महबूबा मुफ्ती के खिलाफ प्रदर्शन भी किया।

लाल चौंक के क्लॉक टावर कुपवाड़ा में बीजेपी नेता पहुंचे वहा अलग-अलग इलाकों से पुलिस ने उन कार्यकर्ताओं को पकड़ लिया और हिरासत में ले गए हैं।

महबूबा मुफ्ती ने तिरंगा को लेकर क्या कहा

उन्होंने कहा है की जम्मू कश्मीर के झंडे के अलावा मै किसी भी दूसरे झंडे को नहीं उठाऊंगी । मैं तिरंगे को जब ही उठाऊंगी जब मेरा झंडा मुझे मेरे एक हाथ में मिलेगा । तभी मैं दूसरे हाथ से तिरंगा झंडा को उठाऊंगी । उन्होंने यह भी कहा कि अभी हमारे झंडे को डाकू द्वारा डाक में ले लिया गया है । वह झंडा हमारा आईना है और उसी झंडे के द्वारा हमारा रिश्ता तिरंगे झंडे से बना है ।

महबूबा मुफ्ती अभी कुछ दिन पहले नजरबंदी से रिहा होकर लौटी हैं । उनकी रिहाई के बाद से जम्मू और कश्मीर में जितने भी स्थानीय नेता है अलग-अलग पार्टियों के, उन्होंने गोपनीय वार्ता किया है कि वह धारा 370 को फिर से बहाल करवा के रहेगें ।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •