NCTE का बड़ा फैसला,CBSE द्वारा आयोजित CTET का प्रमाणपत्र आजीवन valid रहेगा।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

सीबीएसई (केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ) द्वारा लिया गया एग्जाम सीटेट जिसके प्रमाणपत्र की वैधता महज 7 साल की होती थी। उसे अब बढ़ा दिया गया है एनसीटीई द्वारा छात्रों को बड़ी राहत मिली है। एनसीटीई (NCTE) ने CTET क्वालीफाइड प्रमाण पत्र को आजीवन वैलिड कर दिया है । छात्रों को 7 साल के बाद पुनः सीटेट क्वालीफाई करने के लिए दोबारा एग्जाम देने से मुक्ति मिल गई है । वहीं अगर राज्य सरकारों की बात करें तो विभिन्न राज्यों में ( TET) टीचर्स एलिजिबिलिटी टेस्ट के उत्तीर्ण होने पर प्रमाण पत्र की वैधता अलग-अलग है । कहीं 5 साल है, तो कहीं 6 साल है।

वहीं अगर आप सेंट्रल टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट CTET क्वालीफाई करते हैं तो यह लाइफ टाइम वैध रहेगा ।

सीटेट का एग्जाम छात्र साल में दो बार दे सकते हैं। इस एग्जाम में प्रति वर्ष लाखों कैंडिडेट बैठते है। सीटेट साल में 2 बार आयेाजित होता है। साल में CTET का पहला एग्जाम जुलाई के माह में होता है और दूसरा एग्जाम दिसंबर के महीने में होता है । जिसमें दो पेपर लिए जाते हैं, PAPER-1 और PAPER-2।

PAPER-1 में कक्षा 1 से लेकर कक्षा 5 तक के शिक्षक एलिजिबल होते हैं। वही PAPER-2 में कक्षा 6 से कक्षा 8 तक के शिक्षक एलिजिबल होते हैं । एग्जाम क्वालीफाई करने के बाद एक प्रमाण पत्र दिया जाता है । जो कि पहले 7 साल के लिए वैद्य रहता था । लेकिन अब यह वैधता बढ़ाकर आजीवन कर दी गई है । जब तक कैंडिडेट का AGE LIMIT हैै एग्जाम क्वालीफाई करने की। तब तक वह सीटेट क्वालीफाई प्रमाण पत्र द्वारा काउंसलिंग करा सकते हैं।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply